30 Best Motivational Story for Students | Hindi and English Stories

Motivational stories are very important to stay motivated and inspired, we have heard many inspirational stories from our grandparents and teachers. Motive of these Motivational stories to inspire us to do good. As a student and a good person we should learn from these stories and act like this. Read all these Motivational Story for Students in Hindi and English and stay inspired.

30 Best Motivational Stories for Student in Hindi and English

लक्ष्य : Motivational Story for Students from Mahabharat

महाभारत मे अनेक यौद्धा थे जो सब अपने आप मे बलशाली और अपनी कला के माहिर थे| उनको निखारने का काम गुरु द्रोणाचार्य का था| सभी पाण्डव और कौरव उनके पास युद्ध कौशल और ज्ञान प्राप्त करने आते थे| गुरु द्रोणाचार्य उनको बहुत प्यार और लगन के साथ सबकुछ सिखाते थे| गुरु द्रोणाचार्य समय समय पर उन सभी शिष्यों की परीक्षा लेते रहते थे| एक बार गुरु द्रोणाचार्य ने परीक्षा के लिए सबको एकत्रित किया और उनसे तैयार रहने के लिए बोला| गुरु द्रोणाचार्य ने एक पेड़ पर एक नकली चिड़िया रखी और सबको समझाया की इस चिड़िया की आँख पे निशाना लगाना है| सभी शिष्यों को गुरु द्रोणाचार्य की बात समझ आ गई| सब तैयार थे, गुरु द्रोणाचार्य ने सबको बारी बारी से बुलाया और सबसे पूछने लगे :

गुरु द्रोणाचार्य : आपको क्या दिखाई दे रहा है?
एक शिष्य : मुझे पेड़ दिखाई दे रहा है|
गुरु द्रोणाचार्य : (दूसरे शिष्य से) आपको क्या दिखाई दे रहा है?
दूसरा शिष्य : मुझे पेड़ की पत्तियाँ दिखाई दे रही है|
गुरु द्रोणाचार्य : (तीसरे शिष्य से) आपको क्या दिखाई दे रहा है?
तीसरा शिष्य : मुझे चिड़िया के पंख दिखाई दे रही है|

इसी प्रकार से उन्होंने सब शिष्यों को बुलाया और यही प्रश्न पूछा लेकिन सबने अलग अलग जवाब दिया|
फिर उन्होंने अपने प्रिये शिष्य अर्जुन को बुलाया जो धनुर्विद्या मे माहिर थे, उनसे भी गुरु द्रोणाचार्य ने यही प्रश्न पूछा!

Motivational Story for Students in Hindi - English Philosophy
Motivational Story for Students in Hindi – English Philosophy

गुरु द्रोणाचार्य : (अर्जुन से) आपको क्या दिखाई दे रहा है?
अर्जुन : मुझे सिर्फ चिड़िया की आँख दिखाई दे रही है|

गुरु द्रोणाचार्य ने अर्जुन को आदेश दिया और अर्जुन ने चिड़िया की आँख पे सटीक निशाना लगा दिया|

तब गुरु द्रोणाचार्य ने सभी शिष्यों को अपने पास बुलाया और बताया “ऐसा नहीं है की आपलोग धनुर्विद्या मे निपुण नहीं हो, जितना ज्ञान अर्जुन के पास है उतना ही मैंने आप सबको भी दिया है, बस अर्जुन के पास अपने लक्ष्य को भेदने की आत्मशक्ति और ध्यान है| अगर आपलोगो का ध्यान अपने लक्ष्य पर है तो आप किसी भी लक्ष्य को भेद सकते है|”

ये महाभारत की ऐसी कहानी है जो हमें अपने जीवन मे अपने लक्ष्य पे ध्यान देने के लिए प्रेरित करती है, अगर हमारा लक्ष्य बेशक कठिन और मुश्किल हो फिर भी हमारा ध्यान अपने लक्ष्य पे होना चाहिए|

हाथी : Motivational story to understand your power

हाथी, जब भी हम हाथी शब्द सुनते है तब हमारे दिमाग में एक विशाल आकृति बनती है| हाथी ताकत के प्रतीक के रूप में भी हमारे दिमाग में आता है| बेशक हाथी एक विशाल जानवर है जो अपने बड़े आकार और अपने ताकत के लिए जाना जाता है, साधारण जानवर से या फिर मनुष्य से हाथी बहुत बड़ा और ताकतवर होता है| हाथी अगर किसी की बात मानता है तो बस प्यार से बोली गई बात होनी चाहिए, गुस्से से या हथियार के दम पर कोई भी मनुष्य हाथी से काम नहीं ले सकता है| हाथी के ताकत का अंदाजा इससे भी लगा सकते है की जंगल का राजा शेर भी हाथी से पंगा लेने में कतराता है|

ये कहानी भी हाथी के विशाल सामर्थ्य के बारे में है, एक बार एक सज्जन पुरुष हाथियों के कैंप में गया जहाँ कई हाथियों से काम लिया जा रहा था, दिनभर उनसे काम लिया जाता था और रात में कैंप में उनको रखकर उनको खाना दिया जाता था|

जब वह सज्जन पुरुष कैंप में घूम रहा था तब उसने देखा की सभी हाथियों को एक छोटे से लोहे के जंजीर से बंधा गया है, ये देख कर वो आदमी सोच में पड़ गया, उसने सोचा हाथी जैसा विशाल जानवर जो किसी भी चीज को पल भर में तोड़ने का सामर्थ्य रखता है वो इस छोटे से जंजीर में कैसे बंधा है| क्या हाथी इस जंजीर को तोड़ नहीं पा रहा है?

उस पुरुष ने कई बातो को थोड़ी ही देर में सोच लिया लेकिन किसी निष्कर्ष पे नहीं पंहुचा, फिर उसने महावत (जो हाथियों को निर्देश देता है) उसको खोजना शुरू किया, महावत से मिलने के बाद उस मनुष्य ने अपनी जिज्ञासा उसके सामने रखी|

उस पुरुष के जिज्ञासा को सुनकर महावत मुस्कुराया और बोला, इस जंजीर में कोई ऐसी जादुई शक्ति नहीं है जो इस हाथी को रोक के रखा है, इसका कारण बस ये है की जब ये हाथी छोटा था तब इसको इसी जंजीर से बांधा जाता था, उस समय उसने कोशिस की और इस जंजीर को तोड़ नहीं पाया, काफी कोशिस के बाद भी उससे जब ये जंजीर नहीं टूट पाया तब उसने इस जंजीर को तोड़ने का प्रयास बंद कर दिया|

इस हाथी के मन में बैठ गया की वो इस जंजीर को नहीं तोड़ पायेगा, तो जैसे जैसे ये बड़ा हुआ उसने कभी भी इस जंजीर को तोड़ने का प्रयास नहीं किया क्योकि उसने बचपन में ही मान लिया था की वो इसको नहीं तोड़ पायेगा|ये सुनने के बाद वो आदमी और वहाँ उपस्थित सभी मनुष्य जोर जोर से हंसने लगे, लेकिन उस आदमी ने सोचा यही दशा आज कई मनुष्यो की होती है|

इस कहानी को जब हम मनुष्यो के सन्दर्भ में देखते है तब हमें पता लगता है की मनुष्य भी कुछ इसी तरह की पूर्वाभास से ग्रसित है, जब उसने एक दो बार प्रयास किया लेकिन सफल नहीं हुए तब मनुष्यो को लगता है की हम कभी सफल नहीं हो पाएंगे| लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं होता हमें अपनी गलतियों को समझना चाहिए, उससे सीखना चाहिए, और नए तरीको से फिर प्रयास करनी चाहिए, सफलता हमें जरूर मिलेगी|

KFC (Kentucky Fried Chicken) के मालिक ने बहुत कोशिस की, बार बार फेल हुए, लेकिन हर बार अपनी गलतियों को सुधारा और 65 साल के उम्र में इस ब्रांड को स्थापित किया| कई लोग अपने युवावस्था में ही हार मान कर प्रयास करना छोड़ देते है| तो इस कहानी से शिक्षा जरूर ले और अगर आपने प्रयास करना छोड़ दिया है तो अपनी गलतियों को सुधारे और फिर से प्रयास करे, क्या पता आपकी कोशिस रंग लाये|

जैसा करेंगे वैसा पाएंगे – Motivational story to do good in life

रात के समय में सड़क बिलकुल सुनसान था, अचानक गाडी का टायर पंचर हो जाने से सीमा बहुत डर रही थी| वह गाडी से निकल कर खड़ी हो गई, ताकि किसी से मदद मांग सके| दूर से उसे एक मोटरसाइकिल आती दिखी | वह समझ नहीं पा रही थी की उस मोटरसाइकिल वाले को रोके या नहीं| मोटरसाइकिल वाला खुद ही रुक गया|

जब सीमा ने डरते हुए उसे अपनी समस्या बताई, तो उसने कहा मेरा नाम सूरज है, आप चिंता न करे, में टायर बदल देता हूँ| कुछ ही देर में उसने दूसरा टायर लगा दिया, सीमा बोली में आपको कितने पैसे दूँ| सूरज ने बोला मैंने ये काम पैसे के लिए नहीं किया है, बल्कि आपकी मदद करने के लिए किया है| जब मैं मुसीबत में था मेरी भी किसी ने मदद की थी| बस आप भी जब किसी जरूरतमंद को देखे तो उसकी मदद जरूर करिएगा|

सूरज अपने रस्ते चला गया और सीमा अपनी गाडी ले कर आगे बढ़ गई, कुछ दूर जाने पर सीमा को एक पेट्रोल पंप के पास एक छोटी सी चाय की दुकान मिली तो वो चाय पीने के लिए वह रुक गई, उस चाय के दुकान को एक युवती संभाल रही थी जो गर्भवती थी, उसे देख कर लग रहा था की उसकी माली हालत ठीक नहीं थी| सीमा ने उससे बात किया तो ये बात सही साबित हुई|

सीमा ने चाय पीने के बाद सौ का नोट दिया और जब तक वो युवती पैसे लाती तब तक सीमा अपनी गाडी ले के चली गई थी| उस युवती को कुछ समझ में नहीं आया, उसने देखा कागज के एक टुकड़े पर सीमा कुछ लिखकर पांच सौ रुपये के चार और नोट छोड़ गई थी| सीमा ने उस कागज पे लिखा था , “जब में मुसीबत में थी तब किसी ने मेरी मदद की थी और अब ये मेरी तरफ से मदद समझना|”

वह युवती जानती थी की उसका पति किस तरह दिन रात मेहनत करके अपने बच्चे के लिए पैसे जमा कर रहा है, जब वो युवती घर लौटी तो उसने देखा की उसका पति काम से आकर थककर सो गया था, उसने अपने पति के कान में धीरे से बोला, आज मेरा दिन बहुत अच्छा बीता|

इस कहानी के पढ़ने के बाद हमें यही समझ में आना चाहिए की हम कोई भी काम कर रहे हो, कितने भी सफल हो पैसे वाले हो फिर भी मदद की जरुरत सबको होती है, अपना दिल साफ़ और मेहनतकश होना चाहिए|

हम जैसा भी व्यवहार दुसरो के साथ करेंगे, हमारे साथ भी वैसा ही व्यवहार होगा|

स्वकर्म – Story to do good

एक पार्क में एक छोटा लड़का और एक छोटी लड़की एक साथ खेल रहे थे| लड़के के पास सुन्दर कंचे (Marbles) थे और लड़की के पास मिठाइयाँ थी| लड़के ने लड़की से कहा की अगर तुम मुझे मिठाइयाँ दोगी तो में तुम्हे अपने सारे कंचे दे दूंगा| लड़की ने कुछ सोचा और वो तैयार हो गई|

लड़के ने चालाकी की और अपनी सबसे पसंदीदा कंचा अलग रखकर या कहे की छुपाकर अलग रख लिए और बचे हुए कंचे उस लड़की को देकर मिठाई ले ली| लकिन लड़की ने जैसे वादा किया था उसे निभाते हुए उस लड़के को अपनी सारी मिठाई दे दी|

अब दोनों एक दूसरे के साथ और अपनी नई चीज के साथ खेलने लगे| लड़की शांतिपूर्वक कंचे के साथ खेलती रही लेकिन वो लड़का बस यही सोचता रह गया की कही ये मेरी तरह अपनी सबसे पसंदीदा मिठाई छुपा तो नहीं ली जैसे मैंने अपनी पसंदीदा कंचा इस लड़की से छुपा लिया है|

इस कहानी का सीधा मतलब ये है की जब भी हम किसी से कुछ व्यव्हार करते है तो हमें बस ये सोचना चाहिए की हम अपना 100 % सही कर रहे है या नहीं, अगर हम सही है और सही कर रहे है तो हमें आत्मसंतुस्टी बहुत अच्छी मिलती है| अगर हमारे मन में छल कपट है तो हमें ये ही लगता है की सामने वाला भी हमारे जैसा ही है|

सीख – Life changing motivational story for students

यह तीन शरारती दोस्तों की कहानी है जिनकी जिंदगी एक बुजुर्ग की सीख ने बदल दी|

सूरज, अजीत और धीरज दस साल बाद उसी पार्क में मिलने वाले थे, जिसमें हुए एक घटना ने उनकी जिंदगी बदल दी थी| इन बीते सालो में काफी कुछ बदल चूका था, सूरज आईटी इंजीनियर बन गया था, अजीत डॉक्टर बन गया था और धीरज एक बैंक में मैनेजर था| तीनो की शादी हो चुकी थी| सभी सपरिवार पार्क में इक्कठा हुए थे|

सूरज की पत्नी ने पूछा आपलोगो ने अचानक यहाँ आने का फैसला क्यों किया? हम कहीं और भी मिल सकते थे| सूरज, अजीत और धीरज एक दूसरे की तरफ देख कर हसने लगे| सूरज बोला, तुम लोगो को शायद पता न हो की हम बचपन में बेहद उधमी थे| पर ग्रेजुएशन के समय इसी पार्क में हुई एक घटना ने हमारी जिंदगी बदल दी| धीरज की पत्नी ने पूछा, ऐसा क्या हुआ था|

अजीत बोले, तुम लोग शायद इस पर यकीन न करो की हमने इसी पार्क में एक बुजुर्ग को मारा था| तीनो की पत्निया स्तब्ध रह गई. धीरज बोले| अजीत बिलकुल सच कह रहा है. अब धीरज कहने लगा, हमें हर साप्ताह फिल्म देखने की आदत थी| पर घर से इतने पैसे नहीं मिलते थे| सो हर दूसरे शनिवार को इस पार्क में आकर बैठने वाले एक सज्जन बुजुर्ग से पैसे मांगते थे|

और वो दे भी देते थे, लकिन एक शनिवार को उनका मूड कुछ ठीक नहीं था| उन्होंने पैसे नहीं दिए, तो हमने उनका पर्स छीन लिया और भाग गए| उसके बाद वो पार्क में नहीं दिखें, तो हमें अफ़सोस हुआ| हम पूछते हुए उनके उनके घर गए, उनका पर्स लौटाया और माफ़ी भी मांगी| उन्होंने कहा, तुम लोग अच्छे घर के लड़के लगते हो, पढ़ते हो, फिल्म के लिए पैसे मुझसे लेते हो, इसमें कोई हर्ज नहीं है| पर पर्स छीनना अच्छी बात नहीं| पैसे की जरुरत हो तो मुझसे मांग लिया करो| सूरज ने कहा इस घटना ने हमें एक जिम्मेदार इंसान बना दिया| हमें पता चला है की पिछले हफ्ते वो बुजुर्ग गुजर गए है, तो हमने पार्क में मिलने की योजना बनाई|

जीवन की कुछ घटनाये ऐसी होती है की वो हमारी जिंदगी बदल देती है| हम कितने भी शरारती हो लेकिन कभी ऐसा काम नहीं करना चाहिए जो हमारे प्रियजनों, परिवारों और सामने वालो को दुःख न लगे|

Motivational Story for Students in English

ACRES OF DIAMONDS – Motivational Story

Hafiz was a farmer in Africa who was happy and content. He was happy because he was content. He was content because he was happy. One day a wise man came and told him about the glory of diamonds and the power that goes along with them. The wise man said, “If you had a diamond the size of your thumb, you could buy your own city. If you had a diamond the size of your first, you could probably buy your own country.”

And then the wise man left. That night, Hafiz couldn’t sleep. He was unhappy and he was discontent because he was unhappy. The next morning Hafiz made arrangements to sell his farm, took care of his family and went off in search of diamonds. He looked all over Africa and couldn’t find any. He looked all through Europe and couldn’t find any. By the time he got to Spain, he was emotionally, physically and financially broke. He was so disheartened that he threw himself into the Barcelona river and committed suicide.

Back home, the person who had bought his farm was watering the camels at the stream that ran through the farm. Across the stream, the rays of the morning sun hit a stone and made it sparkle like a rainbow. He thought the stone would look good in his living room. He picked up the stone and put it on his mantle piece.

That afternoon, the wise man came and saw the stone sparkling. He asked, “Is Hafiz back?” The new owner said,” No, why do you ask?” The wise man said,” Because that is a diamond. I recognize one when I see one.” The man said, ”No That’s just a stone I picked up from the stream. Come I’ll show you. There are many more,” They went and picked some samples and sent them for analysis. Sure enough, the stones were diamonds. They found that the farm was indeed covered with acres and acres of diamond.

We read this story from the book of Shiv Khera, The motivational writer and speaker. The name of the book is “You can Win.” You can buy from below link.

DAVID AND GOLIATH

We all know the Biblical story of David and Goliath. Goliath was a giant of a man. He struck fear in everyone’s heart. One day, a seventeen years shepherd boy came to visit his brothers and asked,” Why don’t you fight the giant?” The brothers were terrified of Goliath and replied,” Don’t you see he is too big to hit? But David said,” No he is not too big to hit, he is too big to miss,’ the rest is history. We all know what happened. David killed the Giant with the slingshot. Same giant, different perceptions.

This is the best motivational story for students who procrastinate about their studies. Start small and you will definitely learn something.

We read this story from the book of Shiv Khera, The motivational writer and speaker. The name of the book is “You can Win.” You can buy from below link.

LOOK FOR THE GOLD

Andrew Carnegie came to America from Scotland as a young boy. He started out by doing odd jobs and ended up as one of the largest steel manufacturers in the United States. At one time, he had 43 millionaires working for him. A million dollars is a lot of money today, but in the 1920s it was worth much more.

Someone once asked Mr. Carnegie how he dealt with people. Andrew Carnegie replied, “Dealing with people is a lot like digging for gold: When you go digging for an ounce of gold you have to move tons of dirt before you get to an ounce of gold, but when you go digging, you don’t go looking for the dirt, you go looking for the gold. “Andrew Carnegie’s reply has a very important and inspirational message. Though someone positive in every person and every situation. We have to dig deep to look for the positive. Andrew Carnegie’s message is very clear: Because a gold digger Change focus. Look for the positive.

We read this story from the book of Shiv Khera, The motivational writer and speaker. The name of the book is “You can Win.” You can buy from below link.

SOME PEOPLE WILL ALWAYS LOOK FOR THE NEGATIVE

There was a hunter who bought an amazing bird dog. This one-of-kind dog could walk on water. The hunter was looking forward to showing off his new acquisition to his friends. He invited a friend to go duck hunting. After some time, They shot a few ducks and the man ordered his dog to fetch the birds. All day long, the dog ran on water to retrieve the birds. The owner was expecting his friend to comment or compliment him about this amazing dog, but never got one. As they were returning home, he asked his friend if he had noticed anything unusual about his dog. The friend replied, “yes, in fact, I did notice something unusual. Your dog cannot swim,”.

This motivational story for students has a message that some people always look negative, talk negative and stay negative. Leave them behind as they are pessimists, we need to be positive and optimist.

We read this story from the book of Shiv Khera, The motivational writer and speaker. The name of the book is “You can Win.” You can buy from below link.

EDUCATION DOES NOT MEAN GOOD JUDGMENT

There is a story about a man who sold hotdogs by the roadside. He was illiterate, so he never read newspapers. He was hard of hearing, so he never listened to the radio. His eyes were weak, so he never watched television. But enthusiastically, he sold lots of hotdogs. His sales and profit went up. He ordered more meat and got himself a bigger and beetle stove. As his business was growing, his son, who had recently graduated from college, joined his father. Then something strange happened.

The son asked, “Dad, aren’t you aware of the great recession that is coming our way?” The father replied, “No but tell me about it. “ The son said, “The international situation is terrible. The domestic situation is even worse. We should be prepared for the coming bad times. “The man thought that since his son had been to college, read the papers and listened to the radio, he ought to know and his advice should not be taken lightly.

So the next day, father cut down his order for the meat and buns, took down the sign and was no longer as enthusiastic. Very soon, fewer and fewer people bothered to stop at his hotdog stand and his sales started coming down rapidly. The father said to his son, “Son you were right. We are in the middle of a recession. I am glad you warned me ahead of time.”

The motivational outcome from this story is that only education will not give you a good sense of judgement, Students must judge the situation from their own knowledge and never step back by hardwork.

We read this story from the book of Shiv Khera, The motivational writer and speaker. The name of the book is “You can Win.” You can buy from below link.

WHAT IS CONTINUOUS EDUCATION? | IT IS SHARPENING YOUR AXE | Motivational Story

John, a woodcutter, worked for a company for five years but never got a raise. The company hired Bill and within two years he got a raise. This caused resentment. John went to his boss and asked “I’ve been here five years and never got a raise and Bill, within two years, got a raise. How come?” The boss said, “We are a result-oriented company and would be happy to give you a raise if your output went up,” John went back, started hitting harder and potting in more time but he still wasn’t able to cut more trees.

John thought to himself,” Let me go find out from Bill how his output went up. Maybe he knows something more than I do.” Upon asking, Bill answered, “After cutting every tree, I take a break for two minutes and sharpen my axe. When was the last time you sharpened your axe? “John said, “Oh oh, five years ago!

Yes dear Students, This is the most appropriate motivational story for students to understand the importance of continuous studies. We need to update our skills every time to stay ahead in the market. The competition is tough, tight your seatbelt and make your dream come true.

We read this story from the book of Shiv Khera, The motivational writer and speaker. The name of the book is “You can Win.” You can buy from below link.

Also Read : Study Tips

Subscribe our YouTube channel : https://www.youtube.com/c/EnglishPhilosophy

2 thoughts on “30 Best Motivational Story for Students | Hindi and English Stories

Leave a Reply